मंगलवार, 6 अगस्त 2013

गुनगुनाना चाहता हूँ


 
 
 
 
 
 
 
गज़ल गाना चाहता हूँ ,गुनगुनाना चाहता हूँ
ग़ज़ल का ही ग़ज़ल में सन्देश देना चाहता हूँ
ग़ज़ल मरती है नहीं बिश्बास देना चाहता हूँ
गज़ल गाना चाहता हूँ ,गुनगुनाना चाहता हूँ 
 
ग़ज़ल जीवन का चिरंतन प्राण है या समर्पण का निरापरिमाण है 
ग़ज़ल पतझड़ है नहीं फूलों भरा मधुमास है 
तृप्ती हो मन की यहाँ ऐसी अनोखी प्यास है 
ग़ज़ल के मधुमास में साबन मनाना चाहता हूँ 
गज़ल गाना चाहता हूँ ,गुनगुनाना चाहता हूँ

ग़ज़ल में खुशियाँ भरी हैं ग़ज़ल में आंसू भरे 
या कि दामन में संजोएँ स्वर्ण के सिक्के खरे 
ग़ज़ल के अस्तित्ब को मिटते कभी देखा नहीं 
ग़ज़ल के हैं मोल सिक्कों से कभी होते नहीं 
ग़ज़ल के दर्पण में ,ग़ज़लों को दिखाना चाहता हूँ


गज़ल गाना चाहता हूँ ,गुनगुनाना चाहता हूँ 
ग़ज़ल  दिल की बाढ़ है और मन की पीर है 
बेबसी में मन से बहता यह नयन का तीर है 
ग़ज़ल है भागीरथी और ग़ज़ल जीवन सारथी 
ग़ज़ल है पूजा हमारी ग़ज़ल मेरी आरती 
ग़ज़ल से ही स्बांस की सरगम बजाना चाहता हूँ 
गज़ल गाना चाहता हूँ ,गुनगुनाना चाहता हूँ


प्रस्तुति :
मदन मोहन सक्सेना

13 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन 'बंगाल के निर्माता' - सुरेन्द्रनाथ बनर्जी - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया
    ग़ज़ल दिल की बाढ़ है और मन की पीर है
    बेबसी में मन से बहता यह नयन का तीर है
    दाद कबूल करें..

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप गज़ल गाइये, लिखिये और हमें पढवाइये ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीय सक्सेना साहब ,
    सादर प्रणाम
    जक्सन पर आपको काफी समय तक निरंतर पढ़ा ,अब ब्लोगर में आपकी रचनाओं कों पढ़कर बड़ी सुखद अनुभूति हुयी |
    आपका डॉ अजय
    उत्तम पोषण कैसे दे? ब्रेन कों !पढ़िए नया लेख-
    “Mind की पावर Boost करने के लिए Diet "

    उत्तर देंहटाएं
  5. ग़ज़ल दिल की बाढ़ है और मन की पीर है
    बेबसी में मन से बहता यह नयन का तीर है
    ग़ज़ल है भागीरथी और ग़ज़ल जीवन सारथी
    ग़ज़ल है पूजा हमारी ग़ज़ल मेरी आरती
    ग़ज़ल से ही स्बांस की सरगम बजाना चाहता हूँ
    गज़ल गाना चाहता हूँ ,गुनगुनाना चाहता हूँ.....
    latest post: भ्रष्टाचार और अपराध पोषित भारत!!
    latest post,नेताजी कहीन है।


    उत्तर देंहटाएं
  6. ग़ज़ल है भागीरथी और ग़ज़ल जीवन सारथी
    ग़ज़ल है पूजा हमारी ग़ज़ल मेरी आरती

    वाह !!! बहुत खूब लाजबाब गजल बधाई मदन जी ,,,

    RECENT POST : तस्वीर नही बदली

    उत्तर देंहटाएं

  7. गजल पर गजल कही ,क्या बात कही।

    हर बात हुज़ूर आपने ला -ज़वाब कही।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुतियाँ ( 6 अगस्त से 10 अगस्त, 2013 तक) में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर गजल है .गजल है पूजा ,गजल है आरती .बेहद सुन्दर पंक्ति

    उत्तर देंहटाएं