मंगलवार, 8 जनवरी 2013

प्यार के बोल






प्यार  रामा  में है प्यारा अल्लाह लगे ,प्यार के सूर तुलसी ने किस्से लिखे
प्यार बिन जीना दुनिया में बेकार है ,प्यार बिन सूना सारा ये संसार है

प्यार पाने को  दुनिया में तरसे सभी, प्यार पाकर के  हर्षित हुए है सभी
प्यार से मिट गए सारे शिकबे गले ,प्यारी बातों पर हमको ऐतबार है 

प्यार के गीत जब गुनगुनाओगे तुम ,उस पल खार से प्यार पाओगे तुम 
प्यार दौलत से मिलता नहीं है कभी ,प्यार पर हर किसी का अधिकार  है 

प्यार से अपना जीवन सभारों जरा  ,प्यार से रहकर हर पल  गुजारो जरा
प्यार से मंजिल पाना है मुश्किल नहीं , इन बातों से बिलकुल न इंकार है

प्यार के किस्से हमको निराले लगे ,बोलने के समय मुहँ में ताले  लगे
हाल दिल का बताने जब हम मिले ,उस समय को हुयें हम  लाचार हैं

प्यार से प्यारे मेरे जो दिलदार है ,जिनके दम से हँसीं मेरा संसार है
उनकी नजरो से नजरें जब जब मिलीं,उस पल को हुए उनके दीदार हैं

प्यार जीवन में खुशियाँ लुटाता रहा ,भेद आपस के हर पल मिटाता रहा 
प्यार जीवन की सुन्दर कहानी सी है ,उस कहानी का मदन एक किरदार है


प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना

8 टिप्‍पणियां:

  1. प्यारा यह अंदाज है, जहाँ चतुर्दिक प्यार |
    चैन अमन हो जहाँ में, है बढ़िया हथियार |
    है बढ़िया हथियार, अहिंसा से जय होती |
    बापू बोले सत्य, दुश्मनी अहम् बिलोती |
    प्यार प्यार बस प्यार, बढ़ाये भाई चारा |
    मिल बैठें हम चार, लगे माता को प्यारा ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ठीक कहा है .. प्यार पर हर किसी का अधिकार है ...
    प्यारी गज़ल प्यार का सन्देश देती ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्यार के बिना सब अधुरा है,प्यार जिन्दगी की सुंदर कहानी है।प्यार की अहमियत को दर्शाती सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  5. उतम रचना ...प्यार के मायने सिखाती कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सौ बरस की ज़िंदगी से अच्छे हैं प्यार के दो चार पल ....सुन्दर रचना मदनजी ..

    उत्तर देंहटाएं