बुधवार, 8 मई 2013

तन्हाई की महफ़िल




सजा  क्या खूब मिलती है ,  किसी   से   दिल  लगाने  की
तन्हाई  की  महफ़िल  में  आदत  हो  गयी   गाने  की 

हर  पल  याद  रहती  है , निगाहों  में  बसी  सूरत 
तमन्ना  अपनी  रहती  है  खुद  को  भूल  जाने  की 

उम्मीदों   का  काजल    जब  से  आँखों  में  लगाया  है
कोशिश    पूरी  रहती  है , पत्थर  से  प्यार  पाने  की

अरमानो  के  मेले  में  जब  ख्बाबो  के  महल   टूटे 
बारी  तब  फिर  आती  है , अपनों  को  आजमाने  की

मर्जे  इश्क  में   अक्सर हुआ करता है ऐसा भी
जीने पर हुआ करती है ख्वाहिश मौत पाने की

प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना

6 टिप्‍पणियां:

  1. वाह वाह !!! बहुत सुंदर नयाब गजल ,,,बधाई मदन जी...

    RECENT POST: नूतनता और उर्वरा,

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर और उत्कृष्ट ग़ज़ल की रचना,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  3. उम्मीदों का काजल जब से आँखों में लगाया है
    कोशिश पूरी रहती है , पत्थर से प्यार पाने की-----
    प्यार की सकारात्मक सोच
    वाह बहुत खूब
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. सजा क्या खूब मिलती है ,किसी से दिल लगाने की
    सिर्फ और सिर्फ शामो सहर की तन्हाई है ...ye meri panktiyaan hain ..aapki pahli pankti me joda hai

    उत्तर देंहटाएं
  5. उम्मीदों का काजल जब से आँखों में लगाया है
    कोशिश पूरी रहती है , पत्थर से प्यार पाने की ............लाजबाब रचना

    उत्तर देंहटाएं