बुधवार, 27 फ़रवरी 2013

झुनझुना



2 से 5 लाख की आय पर इनकम टैक्‍स में 2000 रुपये की छूट. 
दाल ,रोटी, तेल,परिबहन  ,शिक्षा (सभी आबश्यक बस्तु ) और रेल के दाम बढने के मंहगाई  के इस दौर में आम जनता को सरकार का एक और झुनझुना .

मदन मोहन सक्सेना

5 टिप्‍पणियां:

  1. झुनझुना ही तो देते आ रहे हैं,इससे अधिक की आशा करना बेकार है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. उच्चस्तर पर सम्पदा, रहे भद्रजन लूट ।
    संचित जस-तस धन करें, खुली मिली है छूट ।

    खुली मिली है छूट, बटे डीरेक्ट कैश अब ।
    मनरेगा से वोट, झपटता पंजा सरबस ।

    लेकिन मध्यम वर्ग, गिरे गश खा कर रविकर ।
    मंहगाई-कर जोड़, छुवें दोनों उच्चस्तर ॥

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब सर जी बेहतरीन तंज .

    उत्तर देंहटाएं
  4. हुज़ूर झुनझुने के दिन तो अब लद गए | अब तो ऐसी सरकार के डंडा देने का वक़्त आ गया | जागरूक होकर इनके पीछे लात ज़माने का समय है अब | अब नहीं सुधरी जनता तो कभी नहीं सुधरेगी | जागो हिन्दुस्तान जागो |

    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut khoob,"ham aadmi nahi ham jhunjhune hai jitna haho mujhko baja ko..."

    उत्तर देंहटाएं